Home About Lalkitab Lalkitab Report  Lalkitab Report Yearly Lalkitab Makan Report Lalkitab Match Making Lalkitab Rule Of Remedies Lalkitab General Remedies Lakitab Remedies For Students Lalkitab Run and Remedies Graho Ki Aashiya Experience View Lalkitab Video Online Lalkitab Remedies Contect Me
Home About Lalkitab Lalkitab Report  Lalkitab Report Yearly Lalkitab Makan Report Lalkitab Match Making Lalkitab Rule Of Remedies Lalkitab General Remedies Lakitab Remedies For Students Lalkitab Run and Remedies Graho Ki Aashiya Experience View Lalkitab Video Online Lalkitab Remedies Contect Me
Lalkitab Astrology t; ekrkth
Share on Facebook Share on LinkedIn Share on Twitter Share via e-mail
copyright@2017 www.real vastu.com all right reserved About Lalkitab

      सब  से पहले लाल किताब 1939 में आयी ,फिर 1940 में इसका दूसरा संस्करण आया,फिर 1941 में तीसरा,1942 में चोथा और अंतिम बार लाल किताब 1952 में छपी जिसके 1171 पृष्ठ हैं। इसका लाल रंग ही क्यों,क्योंकि लाल रंग विकास का रंग है,मंगल का रंग है,खुशियों का रंग है।

Lalkitab Report Small About 30 to 40 pages, Lalkitab Report Medium about 60 to 80 pages Lalkitab Report Big about 80 to 120 pages With All Planet Remedies. Printing File & PDF  File also avelebale . Lalkitab Report 1-year, 2- years, 5- years,  10- years, 15 years, 20 years, 25- years Report With All Planet Remedies. Printing File & PDF  File also avelebale . Lalkitab Rule of Remedies Lalkitab Match Making Report Model -1 Lalkitab Match Making Report Model - 2

  लाल किताब के अनुसार, किसी भी कुण्डली में मकान से संबंधित कार्याें में शनि का बहुत बड़ा योगदान होता है। शनि की स्थिति से जातक के मकान के बारे में बहुत सारी जानकारियां प्राप्त होती हैं। मकान कब बनेगा एवं कैसा मकान शुभ फलदायक होगा, इसके लिए कुण्डली में शनि की स्थिति देखनी बहुत जरूरी हो जाती है। कुण्डली में उपस्थित शनि अपना शुभ-अशुभ प्रभाव मकान की नींव का प्रारंभ करने के 3 या 18 वर्ष बाद अवश्य देता है।


ykyfdrkc mik; dsls djsA ykyfdrkc mik; dksu dksu dj lDrs gSaA  mik; dc djuk pkfg, ] fdrus fnu dk djs ] lcls igys dksulk mik; djsA

Lalkitab remedies For Students ,Mantra, Maha Saraswati Yantra , Lalkitab Genaral Remedies , Stotra....

   लालकिताब के अनुसार ऋण, कारण, लक्षण और उपाय।

 1  सुर्य -  स्वऋण।- 2  चंद्र - मातृऋण।- 3  मंगल - कुटुंब  का ऋण।- 4  बुध - बहन बेटी का   ऋण।- 5  गुरु - पितृ ऋण।- 6  शुक्र - स्त्री ऋण।- 7  शनी - निर्दय का ऋण।- 8  राहु - अजन्में का ऋण।- 9  केतु - ईस्वरीस ऋण।-